Jantar mantar in hindi

Jantar Mantar in Hindi जयपुर महाराजा सवाई जय सिंह की खगोलीय वेधशाला

Table of Contents

jantar mantar in hindi

jantar mantar at jaipur

jantar mantar in hindi – जयपुर के महाराज सवाई जय सिंह द्वितीय ने भारत में पांच खगोलीय वेधशालाओं Jantar Mantar का निर्माण किया था इन वेधशालाओं का निर्माण सन 1724 से 1734 के समय में हुआ था पहली वेधशाला दिल्ली में 1724 में बनाई गयी थी जयपुर वेधशाला का निर्माण महाराजा ने जय सिंह 1734 में किया था जो बहुत ही सटीक मानी जाती है

Jantar Mantar at Jaipur

आज इनको हम जंतर मंतर के नाम से जानते है ये वेधशालाये वास्तव में अनोखे संरचनाये है जिससे खगोलीय माप और समय को मापा जाता है ये संरचनाये अपने आप में किसी अजूबा से काम नहीं है इसलिए इन्हे वैश्विक दारोहर का भी दर्जा मिला है अभी ये UNESCO वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल है जंतर मंतर में संसार के सबसे बड़े स्टोन सनडायल ( stone sundial ) है

जंतर मंतर संरचना – Jantar Mantar in Hindi

Jantar Mantar at Jaipur

जयपुर Jantar Mantar वेधशाला में कुछ 19 मुख्य उपकरणों का एक समूह है। इन उपकरणों का उद्देश्य, नग्न आंखों के साथ खगोलीय पदों का अवलोकन करना है  यह मानव निर्मित वास्तुकला का एक चमत्कार है और प्राचीन भारत के कौशल और प्रौद्योगिकी को दर्शाता है। यह भारत की ऐतिहासिक वेधशालाओं में सबसे महत्वपूर्ण, सबसे व्यापक और सबसे जयादा संरक्षित है

Jantar Mantar at Jaipur

Jantar Mantar वेधशाला अभी भी काम करने की स्थिति में है। यह लगभग 18,700 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। वेधशाला ने कई बार सही  किया गया था , विशेष रूप से 1902 में ब्रिटिश शासन में और 2006 में भी इनकी मरम्मत की गयी थी  उस समय निर्माण की कुछ मूल सामग्रियों को विभिन्न सामग्रियों से बदल दिया। कुछ उपकरणों का उपयोग अभी भी आगंतुकों के लिए एक रहस्य है। 18 वीं शताब्दी के समय में उन्होंने कितना सटीक पूर्वानुमान देने वाले यंत्र बनाये  अब यह राजस्थान के एक राष्ट्रीय स्मारक का हिस्सा है।

जंतर मंतर जयपुर वेधशाला के यंत्र -Jantar Mantar in Hindi

लघु सम्राट यन्त्र

Jantar Mantar at Jaipur

लघु सम्राट यन्त्र जयपुर वेधशाला का एक मुख्य सन डायल (sun dial ) है ये यंत्र समय मापने का काम करता है  सम्राट यन्त्र काफी महत्वपूर्ण है ये यंत्र २०  सेकंड तक के समय  को सटीकता से मापता है इस यंत्र की संरचना बहुत ही सुन्दर है  इस यंत्र का एक बड़ा रूप भी है  जिसको हम आगे चलकर देखेंगे

राम यंत्र

Jantar Mantar at Jaipur

राम यंत्र एक  बेलनाकार संरचना है जो आकाश की तरफ खुली हुई है इसका एक केंद्र है इसके स्तम्भ और दिवार सामान ऊंचाई की है यह यन्त्र altitude को मापता है इसका निर्माण जयपुर और दिल्ली की वेधशाला में ही हुआ है

दिगंश यंत्र

jantar mantar in hindi

एक वृताकार यंत्र है जो की खगोलीय पिंडो का दिगंश (Azimuth ) पता लगाने की एक सरल  पद्दिती पर आधारित है ये यन्त्र किसी खगोलीय पिंड का दिगंश उत्तरी दिशा की और से प्रारम्भ करते हुए उसकी पूर्वी दिशा की तरफ सापेक्ष कोणीये सिथिति को दर्शाता है

जय प्रकाश यन्त्र

jantar mantar in hindi

जय प्रकाश यंत्र जैपर वेधशाला का सबसे जटिल यन्त्र है ये एक हेमीस्फेरिकाल यंत्र है जो सूर्य की गति को ट्रैक करता है जय प्रकाश यंत्र जमींन  से आधा ऊपर और आधा निचे की तरफ है

सम्राट यंत्र

Jantar Mantar at Jaipur

सम्राट यंत्र जयपुर वेधशाला का का सबसे बड़ा यंत्र है इसको वहृत सम्राट यंत्र के नाम से भी जाना जाता है जो की एक सन डायल (sun dial ) है ये समय मापने के लिए सबसे बड़ा यंत्र है  सम्राट यंत्र काफी महत्वपूर्ण है ये यंत्र दो सेकंड तक समय सटीकता से मापता है ये यंत्र बहुत ही बड़ा है और बहुत ही सुन्दर संरचना ह।

ध्रुव दर्शक यंत्र

Jantar Mantar at Jaipur

ध्रुव दर्शक यंत्र  पट्टिका वेधशाला के आना सभी यंत्रो की तुलना में काफी सरल यंत्र है समलम्बी संरचना के इस यंत्र के ऊपर एक पट्टिका लगी हैं जो की समतल के साथ वेधशाला के अक्षांस के बराबर का कोण बनाती है पट्टिका का ऊपरी तल उत्तरी ध्रुव की और इंगित करता है जहाँ धुर्व तारा स्तिथ है इसी आधार पर इस यन्त्र का नाम ध्रुव यंत्र रखा है

jantar mantar vlog -Jantar Mantar in Hindi

जंतर मंतर images – Jantar Mantar in Hindi

Jantar mantar at jaipur

Timing – 9.00 am to 4.30 pm

Jantar mantar at Jaipur ticket price

Ticket – Adult 50 Rs for indian

Best places near Jantar Mantar

Get Direction

Jal Mahal in Jaipur review and timing

Follow Us

Check on Facebook

Follow us on Instagram

3 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Nish
Nish
9 months ago
Last edited 9 months ago by Nish
1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x