Walled city of ahmedabad

Walled city of ahmedabad तीन दरवाजा का पूरा इतिहास

Walled city of ahmedabad तीन दरवाजा

Walled city of ahmedabad – आज मैंने अपने दिन की शुरुआत तीन दरवाजे से की है ये तीन दरवाजा मुझे काफी आकर्षित करता था क्योंकि दिन के समय दरवाजा काफी व्यस्त रहता है तो में सुबह के ७ बजे यहाँ पर आ गया हूँ मैंने पहली बार इस तीन दरवाजे बहुत करीब से देखा इस दरवाजे से मैं बहुत बार निकला था लेकिन कभी भी मुझे इस दरवाजे की विरासत महसूस नहीं हुई थी आज का दिन मेरे लिए बहुत ही अच्छा रहा और मैंने इस दरवाजे के इतिहास को समझा तो चलिए मैं आपको इस प्रसिद्ध तीन दरवाजे के बारे में बताने जा रहा हूं Walled city of ahmedabad

यह दरवाजा भद्रा किला के पूर्व में स्थित है तीन दरवाज़ा अहमद शाह के महल के विशाल मैदान में जाने के लिए प्रवेश द्वार है यहां से बादशाह की सवारी जाया करती थी इस प्रवेश द्वार मैं तीन द्वार हैं बीच का द्वार 17 फीट चौड़ा है और दूसरे दो द्वार 13 फीट चौड़े हैं इस दरवाजे में ऊपर जाने के लिए घुमावदार सीढ़ियां है

तीन दरवाजा का इतिहास Walled city of ahmedabad

तीन दरवाजा अहमद शाह १ ने १४१५ ईस्वी में बनवाया था इसका निर्माण अहमदाबाद के निर्माण के तुरंत बाद हुआ था  सन1459 में महमूद बेगड़ा अपने ३०० घोड़ों और 3000 सैनिकों के दल के साथ लड़ने के लिए इसी प्रवेश द्वार से निकला था उस समय रास्ते के दोनों ओर हाथियों  और शाही संगीत से उसका स्वागत किया गया था

 मराठा सूबेदार चिमान जी रघुनाथ ने  1812 में यह फरमान जारी किया की अब से स्त्रियों को भी अपने पैतृक संपत्ति में पुरुष के समान अधिकार होगा और इस फरमान को तीन दरवाजा के ऊपर एक शिलालेख पर लिखवा दिया था उसने कहा कि यदि इस आदेश का पालन नहीं किया जाएगा तो हिंदुओं को भगवान महादेव और मुसलमान को अल्लाह या रसूल को उत्तर देना पड़ेगा

तीन दरवाजा की लोक कथा

तीन दरवाजा के ऊपर कुछ लोग कथाएं भी प्रचलित है एक कथा के अनुसार धन की देवी लक्ष्मी शहर छोड़ने के लिए भद्रा किले के पास आई ओर तीन दरवाजे से बाहर जाने लगी तभी  द्वारपाल ख्वाजा सिद्धीक ने उसको रोक लिया और कहा जब तक अहमद शाह अनुमति नहीं देंगे तब तक आप यहां से बाहर ना जाए इसके बाद कोतवाल बादशाह के पास गया और कहां की लक्ष्मी को शहर में रोकने के लिए मुझे खुद का आत्मसमर्पण करना होगा

जिससे कि शहर की संपत्ति यही पर सलामत रहे आज भी उस कोतवाल का मकबरा  वहीं पर स्थित है और महालक्ष्मी जी के रूप में मां काली का मंदिर विधबान  है कथा के अनुसार आज भी तीन दरवाजा की एक कोख में माता लक्ष्मी जी की ज्योत आज भी जलती है यह परंपरा 600 साल से एक मुस्लिम परिवार द्वारा चलाई जा रही है मैं यहां पर आकर यूनुस भाई से मिला था जो इस परंपरा को आज भी चला रहे हैं

Teen Darwaja Vlog – Walled city of ahmedabad

जाने के लिए NEVIGATION

Follow Us

Check on Facebook

Follow us on Instagram

Check Jama masjid near this

4 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Mamchand
Mamchand
1 year ago

Very Nice

1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x